Connect with us

जानें, कैसे होगी घर में लक्ष्मी की बरकत

Vastu Rashifal

जानें, कैसे होगी घर में लक्ष्मी की बरकत

vastu

आज कल जिंदगी के किसी भी  आयाम मे कुछ करना हो तो धन एवं साधनो की जरुरत पड़ती है. ये श्रम से एवं पूर्व जन्म में  किये गए कर्मो से भाग्य के रूप मे  भी प्राप्त होते है. परन्तु कई बार अथक प्रयास करने के उपरांत धन एवं साधनों के  उपार्जन मे अनेक दिक्कतें आती है. सब कुछ ठीक होते हुए भी कार्य पूरा होते हुए नहीं दिखता है.व्यापार असंतुलित सा रहता है . अच्छे सहयोगी  एवं कर्मचारी नहीं मिलते है. लक्ष्मी रूठी सी लगती है. कही यह वास्तु दोष तो नहीं है?  जी!! बिलकुल ठीक सोच रहे है आप ,यह वास्तु दोष के कारण  हो सकता है. तो आइये पहले  कारण और दोषों को समझते है जिनके कारण यह बाधाएं आ रही है .

वास्तु में  पूरा खेल उर्जा का है. यह उर्जा तत्वों,आकार एवं प्राकतिक उर्जा के प्रवाहो के रूप में  है. पंच तत्वों मे असंतुलन होगा तो धन  के  आने में दिक्कत ,व्यापार असंतुलन ,आकार(shape) मे दोष होने पर धनहानि ,जनहानि एवं विपरीत घटनाओं के रूप में तथा  उर्जा प्रवाहो में दोष होने पर धन कमाने के अवसरों मे कमी एवं मन चाहे परिणाम को पाने के लिए कमी के रूप में देखी जा सकती है . आइये अब देखते है की इन दोषों के कैसे दूर किया जाए  जिससे धन संबंधी  तथा अन्य बाधाएं दूर  हो जाये और लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होने लगे.

vastu123

घर में वास्तु दोष जो धन से संबंधित है उन्हें दूर करने के उपाय.

  1. चार तत्व जल ,अग्नि, वायु एवं प्रथ्वी यह सही स्थान पर है की नहीं सुनिश्चित करे.
  2. उत्तर एवं पूर्व का कोना साफ सुथरा होना चाहिए. उत्तर एवं पूर्व दिशा से  पर्याप्त मात्रा में प्रकाश का प्रवेश होने से घरमें लक्ष्मी की कृपा  स्वास्थ , समृधि एवं यश के रूप मे बनी रहती है.
  3. धन कमाने  के अवसर प्राप्त हो इसके लिए उत्तर दिशा की खिड़की या दरवाजे से समुचित प्रकाश आना चाहिए. यदि ऐसा नहीं है तो तुरंत ही खिड़की या दरवाजे को खोले. यह कुबेर की दिशा भी मानी है. अगर नही खोल  पा रहे है  तो दर्पण एवं जल से संबंधित पेंटिंग का उपयोग वहां की उर्जा को बढाने में कर सकते है.
  4. धन की आवक कम और  खर्च ज्यादा हो तो उत्तर पश्चिम के वास्तु दोष को ठीक करे .  लाल रंग /काले रंग की कोई वस्तु वहां पर हो सकती है. उसे तुरंत उस स्थान से हटा दें.
  5. ईशान्य कोण मे क्रिस्टल्स(स्फटिक) के प्रयोग से धन की आवक में वृद्धि होती है . लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है.
  6. आग्नेय कोण मे दोष हो पर आय होने मे  कठिनाई आती है. अतः सुनिश्चित करें कि अग्नि कोण का तत्व अग्नि वहां पर है की नहीं . यदि नहीं है तो उसे वहां पर स्थापित करे . आय व्यवस्थित होने  होने लगेगी.
  7. अगर लगातार धन हानि  तथा स्वास्थ मे दिक्कत आ रही हो तो निश्चित रूप से  नैरुत्य कोण मे दोष  होता है .  नैरुत्य कोण मे गहरा पीले  रंग का प्रयोग करने से  तथा चौकोर का गुलदस्ता रखने से प्रथ्वी तत्व संतुलित होता है. इससे  धन भी आकर्षित होता है. इस भाग को सूखा रखना चाहिए. यहाँ पर तिजोरी, लॉकर  को रखने से लक्ष्मी स्थिर होती है. यह भाग अन्य की तुलना मे ऊँचा रहने से धन की कमी नहीं होती है .
  8. प्रशासन ,शिक्षा ,निर्माण ,पुलिस ,सिविल ,इंजिनियर पेशे से जुड़े लोगों को तिजोरी का मुख पूर्व की और रखना  चाहिए.
  9. व्यापार ,बैंकिंग ,मार्केटिंग, ट्रेडिंग आदि से संबंधित व्यक्ति को तिजोरी का  मुख उत्तर दिशा की ओर करके रखना चाहिए. इससे लक्ष्मी का वास बना रहता है.
  10. उत्तर मे मनी प्लांट लगाकर रखना चाहिए. इससे घर में लक्ष्मी की लगातार बढ़ोतरी होती रहती है.
  11. बिल्डर को  भी प्लाट के आकार को जरूर ध्यान देना चाहिए. प्लाट को वास्तु  के अनुरूप रखने से दोनों को लाभ होता है.
  12. किसी भी टाउनशिप या काम्प्लेक्स के मुख्य द्वार को वास्तु  के अनुरूप रखने से प्रोजेक्ट जल्दी पूरा होता है.
  13. बिल्डर का प्रोजेक्ट यदि पूरा नहीं हो पा रहा है तो उससे ईशान्य कोण का दोष दूर करना चाहिये.
  14. यदि प्रोजेक्ट के लिए धन की कमी है तो प्लाट के नैरुत्य तथा वायव्य कोण को ठीक करने से समस्या दूर  हो जाएगी.
  15. विवाद की स्थिति होने पर आग्नेय तथा नैरुत्य परिमार्जन आवश्यक है. इससे आय मैं भी वृद्धि होती है.

 

Comments

More in Vastu Rashifal

To Top