Connect with us

आपके आशियाने की सुरक्षा करता है होम इंश्योरेंस

Property Advice

आपके आशियाने की सुरक्षा करता है होम इंश्योरेंस

आप सभी घर की सुरक्षा के लिए अपने घरों में विशेष ध्यान रखते हैं. सी.सी. टीवी कैमरा से लेकर सिक्युरिटी अलार्म जैसे उपकरण अपने घरों में लगाते हैं और दिन रात मेहनत करके अपने आशियाने के लिए पैसे जोड़ते हैं. घर खरीदने के बाद आप अपने घर की सुरक्षा को लेकर चिंतित हो जाते हैं. सभी को अपने घर की सुरक्षा से जुड़े अनचाहे विचार मन में आते रहते हैं. इन अनचाहे विचारों से छुटकारा पाने के लिए आपको होम इंश्योरेंस पॉलिसी मदद करता है.

होम इंश्योरेंस आपको किसी भी अनहोनी की स्थिति में सुरक्षा देती है.  इसमें मकान कवर होता है साथ ही इसमें रखी कीमती चीजें भी इंश्योर्ड हो जाती हैं.  किसी भी आपदा जैसे भूकंप, आग, सुनामी, दंगा, हड़ताल, आतंकी हमला या बाढ़ की दशा में होम इंश्योरेंस पॉलिसी आपके लिए मददगार साबित होती है मिलता है री-इनस्टेटमेंट वैल्यू

होम इंश्योरेंस पॉलिसी आपको घर की पूरी सुरक्षा देता है. इस पॉलिसी के तहत मकान के ढांचे का कवर मिलने के साथ-साथ घर में रखे कीमती सामान भी इंश्योर्ड होता है. इंश्योरेंस के तहत मकान के ढांचे की री-इनस्टेटमेंट वैल्यू का बिमा होता है अर्थात किसी भी कारण से जब मकान डैमेज होता है तो उसकी वास्तविक स्थिति के अनुसार बनाने में जो खर्च आता है उसका आंकलन किया जाता है. इसके अलावा बाजार में जमीन की कीमत, बिल्डिंग मटेरियल, कंस्ट्रक्शन कॉस्ट और लोकेशन के आधार पर मूल्यांकन किया जाता है.

सम एश्योर्ड कवर

होम इंश्योरेंस लेते समय आपको सम एश्योर्ड कवर भी मिलता है. सम एश्योर्ड राशि आपके घर के बिल्ड अप एरिया के आधार पर तय किया जाता है. इसमें बिल्ड अप एरिया के प्रति वर्ग फूट को कंस्ट्रक्शन कॉस्ट से गुणा किया जाता है. उदाहरण के लिए अगर आपके घर का बिल्ड अप एरिया 1100 वर्ग फूट में हुआ है और उसकी कंस्ट्रक्शन कॉस्ट 900 रूपए प्रति वर्ग फुट है तो घर की एश्योर्ड कीमत 9 लाख 90 हजार रूपए होगी. बहुत सी इंश्योरेंस कंपनी अपने हिसाब से कंस्ट्रक्शन कॉस्ट तय करती है.

को-ऑपरटिव हाउसिंग सोसाइटी बीमा

को-ऑपरटिव हाउसिंग सोसाइटी से बिमा लेने पर आपको थोड़ी राहत मिलती है. अगर आप सोसाइटी से ही होम कवर लेते हैं तो आपको कम प्रीमियम देना पड़ता है. परन्तु आपको इसके लिए सावधानी बरतनी चाहिए. सोसायटी द्वारा पॉलिसी लेते समय उसके सभी नियम एवं शर्तों को ध्यान से पढ़ना चाहिए. यदि हाउसिंग सोसाइटी ने पहले से ही पूरे बिल्डिंग के ढांचे का इंश्योरेंस किया हुआ है तो आप सिर्फ अपने घर में रखे कीमती सामानों का इंश्योरेंस करा सकते हैं. सरकरी और जनरल इंश्योरेंस कंपनियों की होम इंश्योरेंस पॉलिसी भी आपके लिए अच्छा विकल्प हो सकते है क्योंकि इसमें ज्यादा सुविधाएं मिल जाती है.

फायर एंड एलाइड पेरिल्स पॉलिसी

यदि आप घर के लिए सिंपल और अच्छा बीमा चाहते हैं तो फायर एंड एलाइड पेरिल्स पॉलिसी आपके लिए सबसे बेस्ट होता है. यह पॉलिसी आपके घर को हर प्रकार के अप्रत्याशित चीजों से कवर देती है. भूकंप, हड़ताल, आग, बाढ़, सुनामी और दंगा जैसी स्थिति में भी यह बिमा कारगर होती है और आपको श्योर्ड कवर मिलता है.

अन्य बीमा

बहुत से बीमा के बारे में आप अपने नजदीकी बैंक या किसी भी इंश्योरेंस कंपनी में जाकर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. आज कल इन्टरनेट और वेबसाईट के माध्यम से भी आप अपनी जरुरत और प्रीमियम का निर्धारण करके सबसे अच्छी पॉलिसी चुन सकते हैं. इसके साथ ही आप कवर अगेंस्ट बर्गलरी से लेकर थर्ड पार्टी लाइबिलिटी कवर जैसी पॉलिसी का चयन भी कर सकते हैं परन्तु ध्यान रहे की आप जितनी सुविधाएं अपनी पॉलिसी में जोड़ेंगे आपको उतना ज्यादा प्रीमियम का भुगतान करना पड़ेगा और अगर आप मल्टीपल कवर पॉलिसी लेते हैं तो बिमा कम्पनियां आपको प्रीमियम में कुछ डिस्काउंट या छुट भी दे सकती हैं.

होम इंश्योरेंस लेते समय रखे इन बातों का ध्यान

आप जब भी होम कवर या बीमा करा रहें हो तो उससे संबंधित सभी जानकारियों के बारे में अच्छे से पता लगा लेना चाहिए. अधिकतर होता है कि आप अपने घर का इंश्योरेंस कराने के बाद निश्चिन्त हो जाते हैं परन्तु बहुत सी पॉलिसी में आपको कवर नहीं मिलता है. इसलिए आपको पॉलिसी से जुड़े सभी नियम एवं शर्तों को सावधानी पूर्वक पढ़ना चाहिए एवं पूर्ण रूप से आश्वस्त होने के बाद ही पॉलिसी का चयन करना चाहिए.

कभी-कभी बिमा कंपनीयां डैमेज या लॉस होने के बाद भी भरपाई नहीं करती हैं जैसे अगर आपके घर में सेंधमारी या चोरी होता है और उसमे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से आपके किसी रिश्तेदार या घर के नौकर का हाथ हो तो इंश्योरेंस कवर आपको नहीं मिलेगा. अगर बीमा कंपनी के नियमानुसार आपका घर तय समय सीमा से ज्यादा दिनों तक खाली है और आपने कंपनी को इसकी सूचना नहीं दी है तो आपको कवर नहीं मिलेगा. अपने घर में किसी भी तरह के बिजनेस के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं  तो भी कुछ कंपनियां पॉलिसी नहीं देती हैं. होम इंश्योरेंस पॉलिसी या हाउसहोल्डर इंश्योरेंस में नकद रकम, शेयर सर्टीफिकेट, बॉन्ड व कार आदि शामिल नहीं होते हैं. अगर घर के साथ इनका भी नुकसान होता है तो भी बीमा कवर नहीं मिलता है.
Photo Credit- cn.ccyp.com, saipropertyconsultancy.com, sgmoneymatters.com, img.clipartfox.com, dreambigrealestate.com, bolhapiac.net

Comments

More in Property Advice

To Top