Connect with us

बजट में रियल एस्टेट को मिली सौगातें, बिल्डर्स और बायर्स दोनों को राहत  

Meri Property

बजट में रियल एस्टेट को मिली सौगातें, बिल्डर्स और बायर्स दोनों को राहत  

बजट से रियल एस्टेट सेक्टर को काफी राहत मिली है. बजट में किये गए घोषणाओं में बिल्डर के साथ-साथ बायर्स का भी बखूबी ध्यान रखते हुए कई अहम घोषणाएं की गई. अपने बजट भाषण में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने नोटबंदी के बाद से मंदी का सामना कर रहे देश की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था को प्रमुखता से ध्यान में रखते हुए महत्वपूर्ण घोषणाएं की.

2017-18 के बजट से उम्मीदों के अनुरूप रियल एस्टेट सेक्टर को भी बड़ी रहत मिली है बजट में की गई घोषणा से इस सेक्टर में काफी ग्रोथ होगा.नोटबंदी के बाद से रियल एस्टेट सेक्टर को बूस्ट देने के लिए बजट से पहले ही केंद्र सरकार ने बहुत से योजनाओं को लागू कर दिया था. बैंकों के पास बड़ी खेप में रकम आने की वजह से होम लोन में भारी गिरावट से लोगों को अफोर्डेबल हाउस खरीदने में काफी मदद मिली है. बजट में हुए मुख्य घोषणाओं से बिल्डर के साथ-साथ बायर्स को भी फायदा मिलेगा.

बायर्स को बड़ी राहत

इस बजट में सरकार ने राष्ट्रीय आवास योजना के तहत 20 हजार करोड़ रुपये कर्ज बांटने की घोषणा करने के साथ-साथ प्रॉपर्टी से जुड़े नियमों में काफी बदलाव किए हैं. कैपिटल गेन टैक्स घटने से लोगों को काफी राहत मिलेगी. पूर्व में कैपिटल गेन टैक्स की सीमा 3 साल थी जिसे बजट में घटाकर 2 साल की गई है. इसके साथ ही कार्पेट एरिया में वृद्धि करते हुए बिल्ट अप एरिया का दायरा 30 वार्गमीटर से बढ़ाकर 60 वर्गमीटर कर दिया गया है तथा टैक्स की सीमा में बिल्ट अप एरिया को कारपेट एरिया माना जाएगा. इस घोषणा से आपको अपने फ्लैट में पुरानी कीमत में ज्यादा जगह मिलेगी. ग्रामीण क्षेत्रों को ध्यान में रखते हुए तथा स्मार्ट सिटी परियोजना पर जोर देते हुए लोगों को सस्ते घर प्रदान करने के लिए राष्ट्रीय आवास योजनाओं हेतु अधिक पैसा जारी किया जाएगा जिससे मध्यमवर्गीय लोगों के साथ-साथ निम्नवर्ग के लोगों को भी सस्ते आवास उपलब्ध होंगे.

इन्फ्रा एस्टेट देने की घोषणा

रियल एस्टेट सेक्टर को लम्बे समय बाद इंतजार का फल इस बजट में जाकर मिला है. काफी दिनों से रियल एस्टेट हाउसिंग सेक्टर को इन्फ्रा एस्टेट्स देने की मांग कर रहा था. इस बजट में वित्त मंत्री ने यह घोषणा को हरी झंडी देते हुए काफी राहत प्रदान की है जिससे अफोर्डेबल हाउसिंग सेक्टर को ग्रोथ मिलेगा. इस घोषणा से रियल एस्टेट सेक्टर को फंड जुटाने की सबसे बड़ी समस्या से निजात पाने में सहायता मिलेगा और इन्वेस्टमेंट के लिए पैसों की कमी नहीं होगी. रूरल हाउसिंग को बढ़ावा देने और प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सस्ते आवास उपलब्ध कराने के टारगेट को बढ़ाने की घोषणा भी इस बजट में की गई है.

तय समय पर मिलेगा घर

अफोर्डेबल हाउसिंग को इन्फ्रा स्टैट्स मिलने से बिल्डर्स को फायदा होने के साथ-साथ बायर्स को भी इसका फायदा मिलेगा. डेवलपर को प्रोजेक्ट लोन लेना आसान हो जाएगा जिससे प्रोजेक्ट्स ज्यादा दिन तक नहीं रुकेंगे और बायर्स को तय समय सीमा में घर उपलब्ध होंगे. इससे इनविट्स और आईडीएफएस का दायरा बढ़ेगा. बजट में नेशनल हाउसिंग बैंक का रिफाइनेंसिंग टारगेट बढ़ाने की घोषणा से इसका सीधा फायदा हाउसिंग सेक्‍टर को होगा.

लोन लेना होगा आसान

बजट में घोषणा की गयी है कि नेशनल हाउसिंग बैंक का टारगेट बढ़ाकर (एनएचबी) 20 हजार करोड़ रूपए कर दिया है. इससे बायर्स और डेवलपर्स को होम लोन मिलना आसान हो जाएगा। एनएचबी का टारगेट बढ़ने से बैंक अधिक से अधिक लोगों को होम लोन देंगे और डेवलपर्स को प्रोजेक्‍ट लोन मिलना आसान हो जाएगा.

अन्सोल्ड इन्वेंटरी से बिल्डर्स को राहत

इस बजट में केंद्र सरकार ने बायर्स के साथ-साथ बिल्डर्स की जरूरतों को भी ध्यान में रखा है. लोन की प्रक्रिया को आसान करने के साथ ही अन्सोल्ड इन्वेंटरी पर भी बिल्डर्स को राहत मिलेगी. पहले घर निर्माण के बाद नहीं बिकने पर भी बिल्डर्स को टैक्स देना पड़ता था परन्तु इसमें थोड़ी राहत देते हुए अन्सोल्ड इन्वेंटरी पर सरकार ने एक साल तक मकान नहीं बिकने और खाली रहने पर टैक्स नहीं देने की घोषणा की है. वर्तमान में अन्सोल्ड इन्वेंटरी से बिल्डर्स को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था परन्तु इस घोषणा के बाद से वो भी चैन की सांस ले रहें हैं.

भगोड़ों की संपत्ति होगी जब्त

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बजट घोषणा करते हुए कहा कि सरकार कर्ज न चुकाने और देश छोड़कर भाग जाने वालों के खिलाफ सख्त कानून बनाने की तैयारी कर रही है. कानून से बचकर फरार होने वाले कर्ज धारक और डिफाल्टरों के विरुद्ध सरकार कड़ा रुख अपनाते हुए उनकी संपति जब्त करने हेतु विधायक में बदलाव करने पर विचार-विमर्श कर रही है. यदि कोई व्यक्ति बैंक से अपने व्यवसाय या अन्य कारणों से बड़ी रकम कर्ज के रूप में लेता है और उसे बिना चुकाए देश छोड़कर भाग जाता है तो उसे भगोड़ा करार देते हुए उसकी संपत्ति जब्त कर ली जाएगी.

 

Photo Credit- acd01234.files.wordpress.com, rockinghorseranchapts.com, lh3.googleusercontent.com, businessdaytv.com, buzznigeria.com, burtel.com, krasnik-okna.p

Comments

More in Meri Property

To Top