Connect with us

घर को खूबसूरत लुक देने बगीचे को बनाए अट्रैक्टिव

Home Improvement

घर को खूबसूरत लुक देने बगीचे को बनाए अट्रैक्टिव

आज-कल की फ़ास्ट फॉर्वोर्ड लाइफस्टाइल में हम अपने सेहत को लेकर काफी चिंतित रहते है. धुल भरी सड़कों और ट्रैफिक से लोग ख़ासी परेशानी होती है. स्वस्थ रहने के लिए हम न जाने कितने उपाय, योगा और व्यायाम करते है परन्तु आस-पास के प्रदूषित वातावरण से उससे निजात नहीं मिलती और स्वच्छ हवा की चाह में दूर तक किसी पार्क में जाकर जॉगिंग और वॉकिंग करते है. बहुत से ऐसे भी है जो अपने घर पर ही इन सब तरीकों को अपनाकर काम चला रहे है परन्तु अगर आप संयंम से सोचे तो साफ़ और स्वच्छ वातावरण आपके इर्द-गिर्द ही है बस इसे पहचानने की जरुरत है. हममें से बहुत से ऐसे होंगे जिन्हें बागवानी का बहुत शौक है और अपने घरों के सामने एक छोटा सा बगीचा बनाकर अपने घर को आकर्षक बनाते है, यदि हम कुछ चीजों पर थोडा ध्यान दे तो हमारा बगीचा हमें स्वच्छ वातावरण के साथ-साथ घर को एक खूबसूरत लुक भी देता है और हमारी पहचान भी बन जाती है. यदि हमें अपने बगीचे को आकर्षक बनाना कहते है तो कुछ बातें है जिनसे हम उन्हें रेनोवेट कर डिफरेंट बना सकते हैं.

बगीचे के बीच छोटा तालाब

जब भी हम किसी ऐतिहासिक या पर्यटक स्थलों में घुमने जाते है और वहां आस-पास कोई तालाब, झरना या पानी का कोई भी स्त्रोत होता है तो हमारा ध्यान उसकी ओर आकर्षित होता है. बगीचे के बीच एक छोटा सा कृत्रिम तालाब बहुत ही सुंदर प्रतीत होता है, यदि हम अपने बगीचे के बीच एक छोटा सा तालाब बना दे और उसमें पानी भरकर जलकुम्भी या कमल का फुल लगा दे तो बगीचे की सुन्दरता और बढ़ जाती है. तालाब बनाने के लिए ज्यादा पैसे खर्च करने की जरुरत नहीं है यदि आपके पास पुराना पानी का टंकी या टब है तो आप उससे भी तालाब बना सकते है. पानी की टंकी को अच्छी तरह साफ़ करके उपरी हिस्से को काटकर उसके आकार का एक गहरा गड्ढा खोद लीजिये और उसे जमीन में गाड़ दीजिये. जमीन में गाड़ने के बाद उसके चारों ओर मिट्टी को अच्छे से भर दीजिये और टंकी के किनारों पर पत्थर रखकर उसे ढंक दीजिए और पानी भर दे. अब आपके बगीचे में भी एक छोटा सा तालाब बन जाएगा परन्तु ध्यान रहे की उसे निरंतर साफ़ करते रहे जिससे उसमें गन्दा पानी जमा न हो.

आकर्षक बाड़ा बनाना

आमतौर पर हम घर के सामने गार्डनिंग करते है उसमें आकर्षक फुल और पेड़ लगाते हैं लेकिन उसके इर्द-गिर्द उनकी सुरक्षा हेतु लगाने वाले बाड़े पर ध्यान नहीं देते. जब भी हम बगीचा बनाते है तो बाड़े को मजबूत और आकर्षक होना चाहिये ताकि बगीचे की खूबसूरती और निखरे. इसके लिए स्टील की जाली व लकड़ी के रेडीमेट बाड़े भी बाजार में आसानी से उपलब्ध हो जाते है. इन बाड़ो को सीधे व व्यवस्थित कतारबद्ध तरीके से बगीचे के चारों ओर लगाने के बाद इसमें हरे रंग का नेट भी लगा सकते है जिससे पौधों को स्वच्छ वायु एवं ग्रीन हाउस का भी अच्छा लुक मिलता है तथा जीव-जंतुओं से पेड़ पौधों की सुरक्षा भी होती है.

सुंदर व आकर्षक गमले लगाना

आम तौर पर हम बगीचा बनाते समय छोटी-छोटी क्यारियां भी बनते है. इन क्यारियों में पौधों को व्यवस्थित रूप से लगाकर उनके चारों ओर रंग बिरंगे व आकर्षक गमलों को सजाने से बहुत ही अच्छा लुक मिलता है. प्रायः बाजार में सामान्य गमले मिलते है उन्हें हम अपने तरीके से अलग-अलग रंगों से रंग सकते है और उनमें पौधे लगाकर उन्हें बगीचे के बीच में लकड़ी या लोहे के स्टैंड से लटका सकते है .

फ्लैट में बगीचा  

आज हर कोई ऐसे माहौल में रहना पसंद करते है जहाँ से उनकी रोजमर्रा से जुड़ी हर जरूरतों का सामान आसानी से मिल सके. आज हर जगह सोसायटी और फ्लैट्स का चलन बढ़ने लगा है परन्तु जो बागवानी के शौक़ीन होते है वे कम जगह और ऊपर फ्लैट होने की वजह से अपना मन मारकर रह जाते है परन्तु उनके पास भी अपने इस शौक को पूरा करने का उपाय है. अपने फ्लैट में ही आप एक छोटे से जगह पर खुद का बगीचा तैयार कर सकते है चाहे आप किसी भी फ्लोर पर ही क्यों न रह रहे हों. ऊपर के फ्लैट में अधिकतर कम धूप की वजह से पेड़ पौधे जल्दी मर जाते है यद्यपि आप गमलों में सामान्य मिट्टी की जगह वर्गीकम्पोस्ट जैसे स्पेशल मिट्टी का उपयोग करे तो वह पौधों के लिए लाभदायक और स्वास्थ्यवर्धक होती है एवं उसका वजन भी कम होता है जिससे गमलों को लटकाने पर वो गिरते भी नहीं है.

लॉन का निर्माण

लॉन बगीचे का सबसे खुबसूरत और आकर्षक हिस्सा होता है, जिसपर हम बैठकर अपने ही आँगन में किसी पार्क या गार्डन का लुफ्त उठा सकते हैं. हरे-भरे घास पर जब हम चलते है तो हमारे पैरों को बेहद सुकून मिलता है, आजकल बगीचे या गार्डन में इसे प्रमुखता से देखा जा सकता है. इसके चलन को देखते हुए आजकल आर्टिफीशियल  घास का भी प्रयोग किया जा रहा है जो बाजार में आसानी से उपलब्ध हो जाता है. अधिकतर लॉन में घास के ख़राब होने की समस्यायों का सामना करना पड़ता है. गर्मी के दिनों में यह सुख व झुलस जाते है यदि आप घास को हरा-भरा रखना चाहते है तो कंपोस्ट खाद का उपयोग कर सकते हैं. यह पूर्ण रूप से सुरक्षित होता है तथा बाजार में आसानी से उपलब्ध हो जाता है. इस खाद में नाइट्रोजन, फ़ॉसफोरस व पोटेशियम मिला होता है यद्यपि कभी इसकी ज्यादा मात्र भी हो जाए तो यह कोई नुकसान नहीं करता और इसमें न ही किसी प्रकार की कोई दुर्गन्ध आती है.

वास्तु के अनुसार बगीचे का निर्माण

वास्तु शास्त्र हमारे जीवन का एक ऐसा हिस्सा है जो हमारे जीवन में उत्साह और अशांति दोनों लेकर आता है, यदि वास्तु के अनुसार चले तो सदैव सौभाग्य की प्राप्ति होती है और उसके विपरीत चले तो दुष्प्रभावों को झेलना पड़ता है. इसलिए यह जरुरी है की बगीचे के निर्माण के समय भी इसके प्रभाव को देखते हुए निर्माण वास्तु अनुरूप होना चाहिए. वास्तु के अनुसार घर में सकारत्मक उर्जा का प्रवाह पूर्व से पश्चिम, उत्तर से दक्षिण, दक्षिण से पश्चिम की ओर होता है इसलिए इन दिशाओं में कभी भी बड़े अथवा घर से ऊँचे पौधे या वृक्ष नहीं लगाना चाहिये अपितु छोटे व कम घने वृक्ष जैसे तुलसी का पेड़ लगाना लाभकारी होता है. सदैव यह ध्यान रखे कि आगमन द्वार पर लताएँ वाले वृक्ष हो एवं सामने की ओर सम संख्या जैसे 2, 4, 6 तथा घर के अंदर मनीप्लांट व क्रिसमस ट्री गमले में रखे. ध्यान रहे ऐसे पौधे जो कटीले हो और उनके बेलों से दुधिया रंग निकलता हो उसे घर के अंदर न लगाएं.

इन पौधों से बढ़ती है बगीचे की रौनक

बगीचे में सदैव चटक व रंग-बिरंगे पौधे लगाना चाहिये जिससे वे आकर्षक दिखते है. मुख्यतः सूरजमुखी, पीला नर्गिस, निगेल्ला, एक्युलिगीय, पेन्सस्टेमाँन, आइरिस, बसंती गुलाब, स्वीट विलियम तथा जलकुम्भी के पौधे लगाना चाहिये. इनका संरक्षण और संवर्धन करना भी आसान होता है.

 

photo credit : , cdn.decoist.com, socreativethings.com, 2.bp.blogspot.com, homedecorideas.eu, kornbsc.com, s-media-cache-ak0.pinimg.com

Comments

More in Home Improvement

To Top