Connect with us

जानें, भूकंप से कैसे मिलेगी आपके आशियाने को सुरक्षा

Property Advice

जानें, भूकंप से कैसे मिलेगी आपके आशियाने को सुरक्षा

हर किसी का सपना होता है कि उसका खुद का घर हो. आशियाने की चाहत लिए आप दिन रात अपनी क्षमता से बढ़कर काम करते हैं और घर को सुंदर और मजबूत बनाने के लिए लाखों रूपए खर्च करते हैं. लेकिन कभी-कभी इतने पैसे खर्चने के बाद भी घर में कुछ न कुछ कमी रह जाती है.

घर की मजबूती उसके आधार पर पर निर्भर करती है. नींव जितनी मजबूत होती है घर की उम्र उतनी ज्यादा बढ़ती है. घर बनाते समय आप सभी अच्छे और टिकाऊ बिल्डिंग मटेरियल का उपयोग करते हैं ताकि आपका घर सुरक्षित बना रहे. आज हम आपको घर की सुरक्षा और उसे मजबूती प्रदान करने हेतु निर्माण के समय ध्यान रखने वाली कुछ महत्वपूर्ण बातों के बारे में बता रहें हैं.

बनाएं भूकंपरोधी घर

घर निर्माण में लाखों रूपए खर्च करने एवं अच्छे और मंहगे मटेरियल का उपयोग करने के बाद भी प्राकृतिक आपदा से आपका घर सुरक्षित नहीं रह पाता है. भूकंप रोधी घर बनाना आज काफी आसान और सस्ता हो चुका है. यदि आप भूकंप रोधी घर बनाना चाहते हैं तो यह आपके बजट के और 10 प्रतिशत हिस्से जितने खर्च में ही बन जाता है. लेकिन पैसे बचाने के चक्कर में बहुत से लोग इसे अनदेखा करते हैं जो बाद में घातक साबित होता है.

घर को भूकंपरोधी बनाने से परिवार और आपकी सुरक्षा सुनिश्चित हो जाती है. किसी भी प्राकृतिक आपदा में आपका घर सुरक्षित रहता है और जान बच सकती है इसलिए घर निर्माण के समय इसे अनदेखा नहीं करना चाहिए. घर की सजावट और साज-सज्जा से ज्यादा जरुरी है घर की सुरक्षा इसलिए इसे विशेष महत्व देते हुए घर का निर्माण करना चाहिए.

निर्माण के समय बरतें यह सावधानी

  • घर निर्माण के समय सही सतह और नींव का ध्यान रखना आवश्यक होता है. जब भी आप घर या भवन का निर्माण करते हैं तो कुछ जरुरी बातें हैं जिन्हें ध्यान में रखना जरुरी होता है. निचे दिए गए बातों को ध्यान में रखकर निर्माण करने से आपका घर मजबूत और लाइफ लॉन्ग तक टिकता हैं.
  • जहाँ मिट्टी का पटाव हो वहां पर अच्छी तरह से प्लायिंग करना चाहिए. नींव के ऊपर अलग-अलग फ्लोर को ईमारत से नींव द्वारा अच्छे तरीके से बांधना चाहिए जिससे प्लिंथ लेबल की नींव, लिंटल के नींव से तथा स्लैब के साथ अच्छी तरह से जुड़ा होना आवश्यक होता है. इससे ऊपर की मंजील को मजबूती मिलती है.
  • घर का सही आकार होना भी जरुरी होता है. सही आकार भूकंप के दौरान उसकी तीव्रता को कम करने और घर को जमीन में मजबूती प्रदान करता है. घर निर्माण के समय उसकी लम्बाई, चौड़ाई और ऊंचाई का अनुपात समान होना चाहिए.
  • घर के लिए निर्माण में उपयोग किये जाने वाले बिल्डिंग मटेरियल में लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए. सीमेंट को निश्चित समय के अंदर ही उपयोग किया जाना चाहिए क्योंकि ज्यादा पुराने और सस्ते सीमेंट घर को कमजोर बनाते हैं.
  • घर की दीवारों को जोड़ने और प्लास्टर करते समय बनाएं गए मसाले को तय अनुपात में ही मिक्स करना चाहिए. मिक्सिंग अनुपात गलत होने से कांक्रीट की ताकत कम हो जाती है जिसकी वजह से प्लास्टर झड़ने और दीवारों पर दरार पड़ जाते हैं.
  • घर को मजबूत बनाने के लिए उपयोग किया जाने वाला सरिया अच्छी गुणवत्ता का होना जरुरी होता है. एक निर्धारित समय के बाद कार्बन की मात्रा बढ़ने से सरिया सख्त हो जाता है.
  • भवन या मकान निर्माण के समय बीम या कालम बांधते समय रग की दूरी सामान और सही तरीके से बंधा होना जरुरी होता है अन्यथा बिल्डिंग कमजोर हो जाती है और भूकंप के झटकों को नहीं झेल पाती है.
  • घर बनाते समय निर्माण स्थल पर खुद खड़े होकर कार्य का निरीक्षण करना जरुरी होता है. घर का निर्माण नक्शे के अनुसार हो रहा है या नहीं, मसाले को सही समय पर लगाया जाना और इंजिनियर या आर्किटेक्ट के कहे अनुसार मिस्त्री एवं मजदूर कार्य कर रहें या नहीं देखना जरुरी होता है.
  • अगर आपने निर्माण कार्य ठेके पर दिया है तो ठेकेदार द्वारा सही बिल्डिंग मटेरियल का उपयोग किया जा रहा है की नहीं देखना भी जरुरी होता है अन्यथा पैसे बचाने के लिए ठेकेदार बिल्डिंग मटेरियल में छेड़छाड़ कर सकता है और निम्न क्वालिटी के मटेरियल का उपयोग कर सकता है जिससे आपका घर कमजोर हो सकता है.

घर में दरार पड़ने पर क्या करें

निर्माण के बाद निश्चिन्त होने के बजाय बीच-बीच में घर का निरीक्षण करते रहना चाहिए. कोनों और जुड़े हुए हिस्सों पर हमेशा ध्यान देते रहना चाहिए. यदि सामान्य दिनों या भूकंप के बाद घर की दीवारों पर दरार दिखे तो तत्काल इंजिनियर या किसी आर्किटेक्ट से संपर्क करना चाहिए. जहाँ पर दरार हो उस जगह पर माइक्रोस्कोप स्लाइड चिपका दें और एक सप्ताह तक उसका निरीक्षण करते रहें. यदि माइक्रोस्कोप स्लाइड में दरार या क्रैक आये तो पता चल जाएगा की दरार बढ़ रही है और यदि एक सप्ताह में स्लाइड पर कोई भी क्रैक नहीं आये तो प्लास्टर तुड़वाकर नया प्लास्टर करा दें.

 

Photo Credit- britishgastoday.co.uk, s-media-cache-ak0.pinimg.com, oregonfoundationrepair.com, sourceindustriesindia.com

 

Comments

More in Property Advice

To Top